Breaking News

काँग्रेस के आलाकमान बिहार काँग्रेस इकाई से नाराज,मदन मोहन झा समेत सभी बरिष्ठ काँग्रेसी दिल्ली तलब। | दरभंगा में गोपालजी ठाकुर बनाम सिद्दीकी,मधुबनी में अशोक यादव बनाम फातमी और झंझारपुर में रामप्रीत मंडल बनाम गुलाब यादव में मुकाबला तय। | राहुल गांधी के कड़े रुख पर बदल रही है महागठबंधन में सीटों का ताल मेल,कीर्ति के लिये दरभंगा या मधुबनी से संभावना बंकी। | दरभंगा की राजनीति में एक युग का हुआ अंत,कीर्ति और फातमी युग अंत के तरफ,संजय झा हासिये पर। | महागठबंधन रह गया बरकरार, काँग्रेस 9 और राजद 20 सीटों पर लड़ेगी चुनाव,दरभंगा कांग्रेस के खाते में। | महागठबंधन टूट के कगार पर,कीर्ति आजाद का दरभंगा से कट सकता है टिकट,सिद्दीकी या मुकेश सहनी उतर सकते मैदान में। | दरभंगा सीट पर एनडीए से कौन मारेगा बाजी:संजय झा,गोपालजी ठाकुर या फिर नीतीश मिश्रा,रस्साकस्सी जारी,फैसला आज शाम तक संभावित। | धुंआ और राख में तब्दील हुआ दरभंगा का झगरुआ गाँव, भीषण अग्नि कांड के भेंट चढ़ा 57 घर,जिंदा जला मासूम। | दरभंगा संसदीय सीट काँग्रेस के खाते में,संजय झा बनाम कीर्ति झा आजाद के बीच मुकाबला। | अब दरभंगा समाहरणालय के दीवारों पर दिखेगी मधुबनी पेंटिग |

कीर्ति हुए भाजपा से आजाद,प्रेस कांफ्रेंस 18 फरवरी को।

कीर्ति हुए भाजपा से आजाद,प्रेस कांफ्रेंस 18 फरवरी को।

 

टाइम्स ऑफ मिथिला न्यूज़,स्पेशल डेस्क।दरभंगा से भाजपा के सांसद कीर्ति झा ने अपने आप को भाजपा से आजाद कर लिया है।शुक्रवार को वो राहुल गांधी से मिलने के बाद कांग्रेस से विधिवत रूप से जुड़ गए पर पुलवामा हमले के कारण मीडिया से रूबरू नही हुए।उन्होंने कहा कि अब 18 फरवरी को प्रेस कांफ्रेंस करेंगे।बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे श्री भागवत झा आजाद के बाद अब उनका बेटा और दरभंगा संसदीय क्षेत्र से तीन बार भाजपा के टिकट से चुन कर संसद भवन पहुचे श्री कीर्ति झा आजाद शुक्रवार को नई दिल्ली अवस्थित कांग्रेस मुख्यालय में राहुल गांधी के समक्ष कांग्रेस पार्टी में शामिल होने हो गए।1993 में भाजपा से जुड़ने के बाद अब पूर्व क्रिकेटर श्री आजाद काँग्रेस के साथ नई राजनीतिक  पारी  कर रहे है।
 
                                ju
 
कहते है आजाद"काँग्रेस से है पुराना नाता"
डीडीसीए के एक मामले में अरुण जेटली से टकराने के बाद भाजपा ने उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया था।श्री आजाद के शब्दों में "मैं वर्षो तक भाजपा के आलाकमान से न्याय का आस लगाए बैठे रहा पर पार्टी से न्याय नही मिली।पिता के व्यक्तित्व के अनुरूप ही मैंने भी हार नही मानना सीखा है।कांग्रेस से पुराना संबंध रहा है।राजीव गाँधी के समय ही पिताजी को ऑफर मिला था मुझे मैदान में उतारने का।" हालांकि भाजपा के तरफ से दिसंबर महीने में कीर्ति को मनाने की कोशिश की गयी थी,पर तब तक देश में हो रहे राजनीतिक परिवर्तन के मिजाज को भांप कर कीर्ति ने कांग्रेस को हाँ और भाजपा को ना बोलना ही उचित समझा।
 
                                   j
 
मिथिला का घर जमाई हूँ,लड़ूंगा तो दरभंगा संसदीय सीट से ही
कीर्ति आजाद का ससुराल दरभंगा जिला का नेहरा गाँव है।उनका अपना मिथिलांचल से जुड़ाव काफी पसंद है।संसदीय क्षेत्र में भ्रमण के दौरान वो अक्सर लोगों को कहते रहते है कि मिथिला का दामाद हूँ और दरभंगा की सेवा 20 वर्षो से करता आ रहा हूँ, अब तो आखरी सांस भी यही लूँगा।लड़ूंगा तो दरभंगा से ही,कहि और जाने का प्रश्न ही नही उठता।

visitor counter