Breaking News

काँग्रेस के आलाकमान बिहार काँग्रेस इकाई से नाराज,मदन मोहन झा समेत सभी बरिष्ठ काँग्रेसी दिल्ली तलब। | दरभंगा में गोपालजी ठाकुर बनाम सिद्दीकी,मधुबनी में अशोक यादव बनाम फातमी और झंझारपुर में रामप्रीत मंडल बनाम गुलाब यादव में मुकाबला तय। | राहुल गांधी के कड़े रुख पर बदल रही है महागठबंधन में सीटों का ताल मेल,कीर्ति के लिये दरभंगा या मधुबनी से संभावना बंकी। | दरभंगा की राजनीति में एक युग का हुआ अंत,कीर्ति और फातमी युग अंत के तरफ,संजय झा हासिये पर। | महागठबंधन रह गया बरकरार, काँग्रेस 9 और राजद 20 सीटों पर लड़ेगी चुनाव,दरभंगा कांग्रेस के खाते में। | महागठबंधन टूट के कगार पर,कीर्ति आजाद का दरभंगा से कट सकता है टिकट,सिद्दीकी या मुकेश सहनी उतर सकते मैदान में। | दरभंगा सीट पर एनडीए से कौन मारेगा बाजी:संजय झा,गोपालजी ठाकुर या फिर नीतीश मिश्रा,रस्साकस्सी जारी,फैसला आज शाम तक संभावित। | धुंआ और राख में तब्दील हुआ दरभंगा का झगरुआ गाँव, भीषण अग्नि कांड के भेंट चढ़ा 57 घर,जिंदा जला मासूम। | दरभंगा संसदीय सीट काँग्रेस के खाते में,संजय झा बनाम कीर्ति झा आजाद के बीच मुकाबला। | अब दरभंगा समाहरणालय के दीवारों पर दिखेगी मधुबनी पेंटिग |

मेहमान कोना

सत्य ही है कि ढाई आखर प्रेम के पढ़े सो पंडित होय !

सत्य ही है कि ढाई आखर प्रेम के पढ़े सो पंडित होय !

मिथिलाक माटि - पानि आ संस्कार-हमर अनमोल मिथिला

जगज्जननी जानकीक प्राकट्य स्थली , शक्तिक भूमि जे पूर्वक समय मे विदेह कहल जाइत छल , से तीरभुक्ति आ आइ तिरहुत वा मिथिला कहल जाइत अछि । ई मिथिला एखन वर्तमान मे ओना भरि संसार मे पसरल अछि किएक ... कोन ठाम आजुक समय मे मैथिल नहि छथि ?

प्रजापति कवि तुलसी, महाकवि निराला और कवि त्रिलोचन

रयागराज के दारागंज मुहल्ले की एक कोठरी। कोठरी के अंदर एक फक्कड़ कवि विराजमान है। वे कवि हैं, सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला'। कोठरी के बाहर दरवाजे पर एक अन्य कवि का आगमन हुआ है। उसके हाथ में त्रिशूल और चिमटा है। वे कवि हैं, त्रिलोचन शास्त्री। मने प्रगतिवाद, छायावाद के दरवाजे पर खड़ा है।

visitor counter